Now Reading
Paytm में हिस्सेदारी खरीद रहा Adani Group? स्टार्टअप ने खुद बताई सच्चाई!

Paytm में हिस्सेदारी खरीद रहा Adani Group? स्टार्टअप ने खुद बताई सच्चाई!

  • क्या गौतम अडानी वाकई Paytm में ख़रीद रहे हैं हिस्सेदारी?
  • इसको लेकर One97 Communications ने जारी किया बयान
paytm-denies-claims-on-stake-sale-to-adani-group

Paytm Denies Claims On Stake Sale To Adani Group: कुछ ही घंटों पहले यह खबरें फैलनें लगीं कि Adani Group के चेयरमैन गौतम अडानी और संकटग्रस्त Paytm के संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा के बीच एक डील को लेकर बातचीत चल रही है। इस कथित डील के तहत गौतम अडानी Paytm में हिस्सेदारी खरीदने को लेकर चर्चा कर रहे हैं।

यह खबर ऐसी फैली कि बुधवार को कारोबार शुरू होते ही Paytm के शेयर की कीमतों ने 5% की ऊपरी सर्किट लिमिट को भी छू लिया। लेकिन अब महज कुछ ही समय के भीतर Paytm पर मालिकाना हक रखने वाली One97 Communications ने इस खबर का खंडन करते हुए इसे ‘अटकलबाजी’ करार दिया है।

Adani Group Buying Stakes In Paytm?

दरअसल कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह कहा गया कि Paytm में हिस्सेदारी खरीदने की योजना को अंतिम रूप देने के लिए उद्योगपति गौतम अडानी और विजय शेखर शर्मा ने मंगलवार को अहमदाबाद में मुलाकात की। दिलचस्प रूप से यह खबरें ऐसे समय में आई जब एक दिन पहले ही यह कहा जाने लगा कि Adani Group डिजिटल पेमेंट सेवाओं से लेकर ई-कॉमर्स सेगमेंट में एंट्री का प्लान बना रहा है।

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

जानकारी के अनुसार, अरबपति गौतम अडानी की कंपनी देश के यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) पेमेंट नेटवर्क सेगमेंट में एंट्री मारते हुए अपनी डिजिटल सेवाओं के विस्तार का मन बना रही है। लेकिन इसके साथ ही अडानी ग्रुप ई-कॉमर्स क्षेत्र में भी प्रवेश की कोशिशों में है।

ऐसे में अचानक Paytm में Adani Group द्वारा कथित रूप से हिस्सेदारी ख़रीदने की खबर पर भी लोगों को जल्दी विश्वास होने लगा था। शायद यही वजह थी कि इसका असर कंपनी की शेयर क़ीमतों पर भी देखनें को मिला। लेकिन अब इस संबंध में One97 Communications की ओर से एक बयान जारी कर चीजों को स्पष्ट कर दिया गया है।

See Also
govt-approves-digital-advertisement-policy-2023

Paytm ने क्या कहा?

असल में Paytm की पैरेंट कंपनी की ओर से दी गई सफ़ाई में कहा गया कि यह महज अटकलें हैं, और कंपनी ऐसी किसी भी तरह की डील को लेकर कोई बातचीत नहीं में शामिल नहीं है। Paytm के मुताबिक, कंपनी ने हमेशा से SEBI द्वारा तय मानकों के तहत अपने दायित्वों का अनुपालन करते हुए डिस्क्लोजर्स दिए हैं और आगे भी देते रहेंगे।

संकट से घिरा हुआ है Paytm

RBI द्वारा की गई कार्यवाई के बाद से ही Paytm के लिए चीजें आसान होती नजर नहीं आ रही हैं। हाल में ही चौथी तिमाही (Q4) के नतीजे में यह सामने आया कि Paytm पर मालिकाना हक रखने वाली One97 Communications Ltd. का घाटा चौथी तिमाही में बढ़ गया है और यह आँकड़ा ₹551 करोड़ तक पहुँच गया है। कंपनी द्वारा दायर की गई एक्सचेंज फाइलिंग में बताया गया था कि Paytm का तिमाही-दर-तिमाही आधार पर घाटा ₹221.7 करोड़ से बढ़कर ₹551 करोड़ हो गया है।

Paytm की पैरेंट कंपनी ने संबंधित तिमाही में आय के लिहाज से 20.5% की गिरावट दर्ज की और यह आँकड़ा ₹2,267 करोड़ रहा। याद दिला दें Paytm पर 31 जनवरी को RBI की ओर से कुछ पाबंदियाँ लगाई गई थीं। केंद्रीय बैंक ने Paytm के वॉलेट और बैंकिंग सेवाओं को बैन कर दिया था। गौरतलब हो, आरबीआई की कार्रवाई के बाद 15 मार्च के बाद से Paytm App में पेटीएम यूजर पेटीएम पेमेंट्स बैंक अकाउंट से ट्रांजैक्शन, पेटीएम पेमेंट्स बैंक में यूपीआई या आईएमपीएस (IMPS) के जरिए कोई भी ट्रांजेक्शन, पेटीएम फास्टैग, पेटीएम पेमेंट्स बैंक में सैलरी आने वाली सेवाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे थे।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.