Now Reading
TCS पर अमेरिकी कर्मचारियों ने लगाया नस्ल के आधार पर छंटनी का आरोप, भारतीयों को दी नौकरी – रिपोर्ट

TCS पर अमेरिकी कर्मचारियों ने लगाया नस्ल के आधार पर छंटनी का आरोप, भारतीयों को दी नौकरी – रिपोर्ट

  • Tata Consultancy Services के ऊपर अमेरिकन प्रोफेसनल्स के एक समूह ने गंभीर आरोप लगाया.
  • अमेरिकी मूल के वर्करों ने TCS के खिलाफ़ समान रोजगार अवसर अयोग (EEOC) के पास शिकायत दर्ज की.
tcs-end-work-from-home-on-october-1

American employees accuse TCS of layoffs on the basis of race: भारत की बेहतरीन और सबसे बड़ी आईटी कंपनी TCS (Tata Consultancy Services) के ऊपर अमेरिकन प्रोफेसनल्स के एक समूह ने गंभीर आरोप लगाया है, TCS के ऊपर अमेरिकन प्रोफेसनल्स ने नस्ल और उम्र के आधार पर उनके साथ गैरकानूनी तरीके से भेदभाव और शॉर्ट नोटिस पर नौकरी से बाहर निकालने का बड़ा आरोप लगाया है।

द वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, वर्कर्स ने आरोप लगाया कि टीसीएस ने उन्हें नौकरी से निकाल कर कम वेतन में उनकी जगह एच-1बी वीजा (H-1B Visa) पर भारतीयों को रख लिया। इसके लिए वर्कर्स के एक समूह ने समान रोजगार अवसर आयोग (ईईओसी) के पास एक शिकायत भी दर्ज करवाई हैं।

40 से 60 साल के स्थानीय अमेरिकी नागरिकों को जॉब से निकाले जाने का आरोप

EEOC (समान रोजगार अवसर आयोग) के पास दर्ज की गई शिकायत में तकरीबन 22 के करीब अमेरिकी मूल के वर्कस ने भारतीय कंपनी TCS के ऊपर आरोप लगाते हुए कहा है, कम्पनी ने नस्ल और उम्र के आधार पर उनके साथ गैरकानूनी तरीके से भेदभाव किया है, अलग-अलग जातीय पृष्ठभूमि से आने वाले और 40 से 60 साल की उम्र के इन पूर्व कर्मचारियों का आरोप है कि TCS ने शॉर्ट नोटिस पर उनका रोजगार खत्म कर दिया, उनके स्थान में H -1B वीजा पर कम सैलरी वाले भारतीय प्रवासियों को काम पर रख लिया है।

TCS ने अपने ऊपर लगे आरोपों को किया ख़ारिज

TCS (Tata Consultancy Services) ने अमेरिकी मूल के वर्करों द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा ये आरोप मनगढ़त और गुमराह करने वाले है, उन्होंने अपने बयान में कहा अमेरिका में कंपनी के द्वारा दिए जाने वाले रोजगार के लिए सभी के लिए समान मौका उपलब्ध करवाया जाता है। TCS के पास अमेरिका में समान अवसर देने वाली कंपनी होने और ईमानदारी के साथ काम करने का एक शानदार रिकॉर्ड है।

कौन से वर्कर हुए प्रभावित

पिछले साल दिसंबर से अब तक TCS के खिलाफ़ 22 के करीबन अमेरिकी मूल के नागरिक ने समान रोजगार अवसर आयोग (EEOC) से शिकायत की है, यह सभी लोग (American employees accuse TCS of layoffs on the basis of race) उत्तरी अमेरिकी,एशियन अमेरिकी, और हिस्पैनिक अमेरिकन्स हैं, जिनकी उम्र 40 से 60 के बीच की है और यह सभी अमेरिका के अलग अलग क्षेत्र मे निवास करते है। इन सभी ने बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री सहित कई एडवांस डिग्रियां हासिल की हुई है।

See Also
upi-now-in-france-list-of-countries-accepting-upi

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

गौरतलब हो, अमेरिकी मूल के वर्करों ने TCS के खिलाफ़ समान रोजगार अवसर अयोग (EEOC) के पास शिकायत दर्ज की है, आपकों बता दे, अमेरिकी समान रोजगार अवसर आयोग एक संघीय एजेंसी है जो अमेरिका में संघीय कानूनों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है, यह नौकरी आवेदक या कर्मचारी की जाति, रंग, धर्म, लिंग, आयु, विकलांगता या आनुवंशिक जानकारी के कारण भेदभाव पर रोक लगाता है और इसका मुख्यालय वॉशिंगटन में स्थित है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.