Zepto बना 2023 का पहला भारतीय यूनिकॉर्न, मिला $200 मिलियन का निवेश

zepto-becomes-first-unicorn-of-2023-raises-200-million

Zepto becomes first unicorn of 2023: क्विक कॉमर्स या कहें तों मिनटों में ग्रोसरी डिलीवरी सुविधा देने वाला भारतीय स्टार्टअप Zepto साल 2023 का पहला यूनिकॉर्न बन गया है। जी हाँ! नए निवेश दौर के साथ कंपनी की वैल्यूएशन $1.4 बिलियन को पार कर चुकी है।

मुंबई आधारित इस स्टार्टअप ने अपने सीरीज-ई फंडिंग राउंड में $200 मिलियन का निवेश हासिल किया है। इस निवेश दौर का नेतृत्व अमेरिकी वेंचर कैपिटल फर्म StepStone Group ने किया।

इतना ही नहीं बल्कि Zepto के इस हालिया निवेश दौर Goodwater Capital समेत कंपनी के कुछ मौजूदा निवेशकों जैसे Nexus Ventures, Glade Brook और Lachy Groom ने भी भागीदारी दर्ज करवाई है।

इस नए निवेश के साथ ही Zepto द्वारा अब तक हासिल की गई कुल फंडिंग का आँकड़ा $560 मिलियन तक पहुँच गया है। साथ ही इस हालिया निवेश के पहले कंपनी की वैल्यूएशन $900 मिलियन थी, जो अब बढ़कर $1.4 बिलियन हो गई है।

इसके पहले बीते साल की मई में कंपनी ने अपने सीरीज-डी फंडिंग राउंड में भी $200 मिलियन का निवेश हासिल किया था।

Zepto Becomes India’s Latest Unicorn: कंपनी के बारे में!

Zepto की शुरुआत अप्रैल 2021 में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ड्रॉपआउट आदित पालिचा (Aadit Palicha) और कैवल्या वोहरा (Kaivalya Vohra) ने मिलकर की थी। यह एक क्विक डिलीवरी ऐप है जो उपयोगकर्ताओं को 10 मिनट या उससे कम समय में किराने (ग्रोसरी) संबंधी सामान की डिलीवरी करने का दावा करता है।

zepto

कंपनी देश भर में फैले अपने डिलीवरी हब के नेटवर्क के माध्यम से 10 मिनट में 6,000 से अधिक किराना उत्पाद की डिलीवरी करने में सक्षम है। कंपनी अपनी शुरुआत से केवल 21 महीने के भीतर ही यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल करने में कामयाब हो गई है।

See Also
End Of Life Vehicle Policy Delhi

कंपनी फिलहाल दिल्ली एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, पुणे और चेन्नई सहित सात शहरों में अपनी सेवाओं की पेशकश कर रही है।

वैसे अब तक Zepto ने वित्त वर्ष 2023 से जुड़े आँकड़े पेश नहीं किए हैं, लेकिन अगर एक साल पहले यानी वित्त वर्ष 2022 के आँकड़ों को देखें तो तब कंपनी ने ₹390 करोड़ के घाटे के साथ लगभग ₹142 करोड़ का राजस्व कमाया था।

दिलचस्प यह है कि भारत में क्विक कॉमर्स बाजार मुख्य रूप से अपनी उच्च नकदी खपत और एक टिकाऊ बिजनेस मॉडल की कमी के चलते सवालों के घेरे में नजर आता रहा है।

भारत का 111वाँ यूनिकॉर्न 

आपको बता दें, Zepto के पहले तक Molbio भारत का अंतिम यूनिकॉर्न था, जिसके सितंबर 2022 में यह दर्जा हासिल किया था। वैसे Zepto भारत का 111वाँ यूनिकॉर्न स्टार्टअप बना है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.