9 साल बाद Swiggy अपने फूड डिलीवरी बिजनेस से कमानें लगा मुनाफा, सीईओ ने दी जानकारी

swiggy-hikes-price-as-platform-fee-upto-rs-10-ahead-of-ipo

Swiggy Turns Profitable: आज से कुछ सालों पहले स्टार्टअप ईकोसिस्टम में सबसे अधिक क्रेज ‘वैल्यूएशन’ को लेकर देखा जाता था, लेकिन वक्त के साथ स्टार्टअप्स को यह समझ में आने लगा कि वास्तविक बिजनेस में ‘मुनाफे’ (प्रॉफिट) के पहलू को बहुत समय तक दरकिनार नहीं किया जा सकता।

खासकर आज के हालातों में दुनिया भर के तमाम देशों की तरह भारतीय स्टार्टअप्स भी ‘फंडिंग की कमी’ और ‘वैल्यूएशन में कटौती’ जैसी चीजों का सामना करने के चलते, अब ‘प्रॉफिटेबल’ बनने पर ध्यान केंद्रित करते नजर आ रहे हैं। और अब फूड डिलीवरी स्टार्टअप, स्विगी (Swiggy) को इसमें सफलता मिलती भी दिखाई दे रही है।

जी हाँ! खुद स्विगी (Swiggy) के संस्थापक और सीईओ श्रीहर्ष मजेटी (Sriharsha Majety) ने गुरुवार को इस बात की जानकारी दी कि इस फूड डिलीवरी कंपनी ने मार्च 2023 से लाभ कमानें की शुरुआत कर दी है। एक ब्लॉग पोस्ट में उन्होंने बताया;

“मार्च 2023 तक, Swiggy का फूड डिलीवरी बिजनेस (सभी कॉर्पोरेट लागतों को शामिल करने के बाद ‘प्रॉफिटेबल’ हो गया है, हालाँकि इसमें कर्मचारी स्टॉक विकल्प (ESOPs) लागत को शामिल नहीं किया गया है।”

इस बीच मजेटी ने किसी भी प्रकार से राजस्व आँकड़े सार्वजनिक नहीं किए हैं। लेकिन इसको उन्होंने दुनिया में किसी भी फूड डिलीवरी व्यवसाय के लिए एक अहम पड़ाव बताया है।

swiggy-turns-profitable-in-food-delivery
Image Credit: Swiggy (Play Store)

Swiggy Turns Profitable After 9 Years

Swiggy की शुरुआत साल 2014 में की गई थी, ऐसे में देखा जाए तो कंपनी अपनी फूड डिलीवरी सेवा शुरू करने के लगभग 9 साल बाद मुनाफा कमाने की शुरुआत कर रही है। आपको भले यह समय ज़्यादा लगे, लेकिन कंपनी के सीईओ के मुताबिक, वैश्विक स्तर पर बहुत कम फूड डिलीवरी कंपनियाँ हैं, जिन्होंने इतने कम समय में ऐसी सफलता हासिल की हो।

दिलचस्प रूप से कुछ ही दिनों पहले दो दिग्गज अमेरिकी निवेशकों Invesco और Baron Capital द्वारा बेंगलुरु आधारित Swiggy की वैल्यूएशन में कटौती की बात सामने आई थी।

इस बीच कंपनी सीईओ ने पिछले साल ऑल-स्टॉक डील के तहत लगभग $120 मिलियन डॉलर में किए गए Dineout के अधिग्रहण का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया कि वर्तमान में यह सर्विस 34 शहरों में 21,000 से अधिक रेस्तरां के साथ आगे बढ़ रही है।

इसके साथ ही श्रीहर्ष मजेटी ने क्विक कॉमर्स सुविधा, Instamart को लेकर भी उत्साह व्यक्त करते हुए, कहा कि यह भी प्रॉफिटेबिलिटी की दिशा में बढ़ रहा है और आने वाले समय में यह तीन साल पुराने बिजनेस का कंट्रीब्यूशन मार्जिन न्यूट्रल हो जाएगा। ये इसलिए भी दिलचस्प है क्योंकि भारत के क्विक कॉमर्स क्षेत्र में Instamart का सीधा मुकाबला Zomato के मालिकाना हक वाले Blinkit, Reliance समर्थित Dunzo और Tata के BigBasket से है।

See Also
pine-labs-pharmeasy-face-valuation-markdowns

Zomato सीईओ ने भी दी Swiggy को बधाई! 

वहीं इंटरनेट पर इस खबर के साथ ही एक बात और छाई रही, और वह थी Swiggy के सीईओ को Zomato के सीईओ द्वारा दी गई बधाई! असल में Zomato के सीईओ दीपेंद्र गोयल (DeepinderGoyal) ने ट्विटर पर श्रीहर्ष मजेटी के पोस्ट में बधाई देते हुए लिखा ‘Nicely Done!’

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.