Now Reading
BYJU’S ने किया 33 साल पुराने Aakash Institute का $1 बिलियन में अधिग्रहण

BYJU’S ने किया 33 साल पुराने Aakash Institute का $1 बिलियन में अधिग्रहण

byjus-to-cut-5000-jobs-amid-fresh-layoffs

तेज़ी से भारत के EdTech क्षेत्र में नाम कमाने वाले 6 साल पुराने BJYU’s ने सोमवार को NEET और IIT-JEE जैसी जैसे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करवाने वाली 33 साल पुरानी कोचिंग Aakash Educational के अधिग्रहण का ऐलान किया है।

जैसा की हमनें आपको रिपोर्ट्स के अनुसार पहले ही बताया था, BYJU’s ने अधिग्रहण क़रीब $1 बिलियन में किया है, और जानकारों की मानें तो ये भारत के इतिहास में किसी EdTech कंपनी द्वारा की गई सबसे बड़ी डील है।

ये डील ऐसे वक्त में हुई है जब अभी भी महामारी की वजह से सरकारी गाइडलाइंस आदि के चलते ऑफ़लाइन कोचिंग सुचारु रूप से अपना संचालन नहीं कर पा रही हैं और तमाम छात्र भी अब ऑनलाइन कोचिंग आदि का सहारा लेने लगे हैं।

याद दिला दें पिछले साल ही BYJU’s ने बच्चों को ऑनलाइन कोडिंग सीखाने वाले स्टार्टअप WhiteHat Jr का भी क़रीब $300 मिलियन में अधिग्रहण किया था।

BJYU’s ने ख़रीदा Aakash Educational

बता दें 2019 में कंपनी में $500 मिलियन का निवेश करने वाली पीई फर्म Blackstone Group द्वारा समर्थित, Aakash Educational Services Limited (AESL) असल में देश भर में Aakash Institute नामक कोचिंग सेंटर्स का संचालन करती है, जो देश के क़रीब 130 शहरों में अपने 200 से अधिक कोचिंग सेंटर्स के साथ कक्षा 10-12 के बच्चों को इंजीनियरिंग और मेडिकल परीक्षाओं की तैयारी करवाती है।

इसके साथ ही Aakash Educational  स्कूल बोर्डों और जूनियर प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कक्षा 8-10 के छात्रों के लिए भी फ़ाउंडेशन कोर्स की पेशकश करती है।

ऑफ़लाइन रूप से इसकी प्रमुख इकाईयाँ हैं, Aakash Medical, Aakash IIT-JEE और Aakash Foundations, इसकी वेबसाइट के अनुसार कंपनी के पास फ़िलहाल 2.5 लाख से अधिक छात्र हैं।

इसके पहले ब्लूमबर्ग क्विंट की एक रिपोर्ट के अनुसार Byju’s ने इस डील में Aakash के संस्थापक, चौधरी परिवार से पूरी हिस्सेदारी ख़रीद रही है। वहीं Blockstone Group भी Byju’s की हिस्सेदारी के लिए कोचिंग सेंटर में अपनी 37.5% इक्विटी का एक हिस्सा बेच सकता है।

असल में Byju’s इसके साथ देश में शिक्षा क्षेत्र के नज़रिए से अपनी जड़े और भी मज़बूत करता नज़र आएगा, जिसमें डिजिटल हिस्सेदारी की बात करें तो कंपनी पहले ही अग्रणी बनी हुई है।

See Also
govt-asked-chinese-phone-brands-to-appoint-indian-ceos

इस नई डील के बाद कंपनी असल में Aakash के इंडस्ट्री से जुड़े अनुभव और अपने प्लेटफ़ॉर्म पर तमाम ग्रैजूएशन कोर्स की तैयारी आदि के लिए पाठ्यक्रमों का लाभ उठाना चाहेगी।

बता दें BYJU’s ने पिछले साल अपनी वैल्यूएशन को दोगुना करते हुए $6 बिलियन से बढ़ाकर $12 बिलियन कर लिया था।

बायजू रवींद्रन के नेतृत्व वाली बेंगलुरु आधारित इस कंपनी ने मार्च 2020 से नवंबर 2020 के बीच अपने प्लेटफॉर्म पर 25 मिलियन नए छात्रों को जोड़ने का भी दावा किया है। कंपनी के मुताबिक़ अब तक ऐप में 75 मिलियन से अधिक रजिस्टर्ड छात्र और 4.5 मिलियन से अधिक पेड सदस्यता वाले छात्र शामिल हो चुके हैं।

साथ ही आपको बता दें ख़बरों के मुताबिक़ BYJU’s अब जल्द ही मुंबई आधारित K12 प्रतिद्वंदी Toppr का भी अधिग्रहण कर सकता है हालाँकि इसको लेकर किसी स्पष्ट और ठोस जानकारी का इंतज़ार किया जा रहा है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.