Now Reading
Flipkart ने किया Walmarts India का अधिग्रहण; पेश करने जा रहा है ‘किराना’ स्टोर्स के लिए अपना नया मार्केटप्लेस

Flipkart ने किया Walmarts India का अधिग्रहण; पेश करने जा रहा है ‘किराना’ स्टोर्स के लिए अपना नया मार्केटप्लेस

Flipkart ने अपनी पैरेंट कंपनी Walmart की एक भारतीय विरासत को आगे बढ़ाने का मन बनाया है। जी हाँ! असल में अपने थोक बाज़ार प्लेटफ़ोर्म Flipkart Wholesale के लॉन्च से पहले कंपनी ने भारत में Walmart  वॉपूरे कारोबार का अधिग्रहण कर लिया है।

दरसल कंपनी अब छोटे स्टोर और संभावित ग्राहकों के बीच मध्यस्थ के रूप में काम करते हुए, पूरे देश में पॉप स्टोर के साथ साझेदारी करने की योजना बना रही है। ऐसा लगता है की Flipkart अब JioMart को टक्कर देने का मन बना रहा है।

लेकिन इतना ज़रूर है कि इस बाज़ार में पहले से ही ऐसे कुछ बड़े खिलाड़ी अपनी जगह बना चुकें हैं, जिनमें Udaan और JioMart कुछ बड़े नाम है। लेकिन इस बाज़ार में शायद अभी भी काफ़ी संभावनाओं को , फ्लिहुए Flipkart Wholesale ने Walmart India के 100% कारोबार का अधिग्रहण करने का फैसला किया है।

आपको बता दें देश में Walmart के 28 स्टोर्स होने का दावा किया जाता है और इसके साथ ही यह Best Price कैश-एंड-कैरी बिजनेस भी संचालित करता है। ज़ाहिर है Flipkart Wholesale को शुरुआत में इस क़दम से काफ़ी मदद मिलेगी, कंपनी सीधे क़रीब 1.5 मिलियन ग्राहकों तक पहुंच प्राप्त करेगी।

ग़ौर करेंगें तो कंपनी की योजना Flipkart की स्थानीय तकनीक और विशाल सप्लाई चेन ढांचे का उपयोग कर देश भर में किराना और MSMEs तक पहुंचने की है, जो Flipkart Wholesale बिजनेस मॉडल की रीढ़ बन सकती है।

लेकिन हाल ही में ही Walmart ने जिस तरह से Flipkart में $1.2 बिलियन का निवेश किया था, उसको देखते हुए यह डील थोड़ी अजीब ज़रूर लग रही है। अजीब इसलिए भी क्योंकि भले ही दोनो डील आपस में संबंधित हों, लेकिन आधिकारिक तौर पर इसके बारे में कुछ भी नहीं कहा गया है।

वहीं इस बीच कंपनी ने अपने ब्लॉग पोस्ट में कहा;

“Flipkart Group भारत का स्वदेशी ई-कॉमर्स ग्रुप है, जिसने आज एक नए डिजिटल मार्केटप्लेस Flipkart Wholesale के लॉन्च की घोषणा की, जो भारत में खुदरा तंत्र को अत्याधुनिक और स्थानीय स्तर तैयार तकनीकों का लाभ उठाने में मदद करेगा।”

“इस लॉन्च के ही एक हिस्से के रूप में हमनें Walmart India Pvt. Ltd. के 100% अधिग्रहण की दिशा में भी क़दम बढ़ाया है, जो कंपनी की Wholesale क्षमताओं को मज़बूत करने के साथ ही साथ आगे इसका विस्तार करने में भी मदद करेगा।”

ज़ाहिर है कि इस वक़्त कंपनी किराना व्यवसायों और MSMEs की ओर अधिक रूख कर रही है। मानों Flipkart को अब यह एहसास हो चुका है कि ये किराना स्टोर भारत के खुदरा व्यापार का एक अनिवार्य हिस्सा हैं, और इसलिए इन्हें उत्पादों के व्यापक चयन के लिए वन-स्टॉप एक्सेस प्रदान किया जा सकता है।

See Also
byjus-aakash-insitute-appoints-deepak-mehrotra-as-new-ceo

वहीं इस पर Walmart International के अध्यक्ष और सीईओ, Judith McKenna ने पुष्टि करते हुए कहा;

“Flipkart Wholesale अगस्त 2020 में अपना परिचालन शुरू करेगी और किराना व फैशन श्रेणियों के लिए पायलट सेवाएं प्रदान करेगी। इसकी अगुवाई Flipkart के अनुभवी अधिकारी आदर्श मेनन करेंगे। इसके साथ ही Walmart India के सीईओ समीर अग्रवाल एक सुचारु परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए कंपनी के साथ बने रहेंगे, और बाद में वह Walmart में ही अन्य भूमिकाओं में अपनी सेवाएँ देंगें”

लेकिन इतना ज़रूर है कि Flipkart के लिय सब कुछ इतना भी आसान नहीं होने वाला है, क्योंकि इस क्षेत्र मीन बहुत से स्थापित खिलाड़ियों ने पहले ही बाजार में अपने पैर जमा लिए हैं और जिनसे सीधे तौर पर भीड़ना कंपनी के लिए एक कठिन काम साबित हो सकता है। Udaan के पास भी देश के 600 शहरों में उपस्थिति मौजूद है और JioMart के पास भी और तेज विकास करने के लिए पर्याप्त धन मौजूद है।

हाल ही में ही Jio द्वारा हासिल किया गया क़रीब $20 बिलियन का निवेश, मुख्यतः JioMart के आगामी विकास के भी संकेत देता है और Facebook के बतौर निवेशक शामिल होने के बाद से WhatsApp आदि के ज़रिए भी JioMart को इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण सहयोग मिलने की उम्मीद है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.