Now Reading
Agnikul ने रचा इतिहास, अनोखे 3D-प्रिंटेड रॉकेट इंजन के साथ Agnibaan किया लॉन्च

Agnikul ने रचा इतिहास, अनोखे 3D-प्रिंटेड रॉकेट इंजन के साथ Agnibaan किया लॉन्च

  • चेन्नई आधारित स्टार्टअप ने लॉन्च किया Agnibaan रॉकेट
  • दुनिया के पहले सिंगल-पीस 3D-प्रिंटेड रॉकेट इंजन से लैस
agnikul-launches-agnibaan-with-world-first-single-piece-3d-printed-rocket-engine

Agnikul Launches Agnibaan SOrTeD: भारतीय स्पेस-टेक स्टार्टअप Agnikul Cosmos ने आज एक नया इतिहास रच दिया है। चेन्नई स्थित इस कंपनी ने गुरुवार को श्रीहरिकोटा में अपने खुद के लॉन्च-पैड से Agnibaan SOrTeD नामक रॉकेट को सफलतापूर्वक लॉन्च किया। यह इसलिए भी खास हो जाता है क्योंकि Agnikul इसके पहले इस परीक्षण के तहत चार असफल प्रयास कर चुका है।

यह परीक्षण उड़ान बिना किसी लाइव-स्ट्रीमिंग के इसरो के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के अंदर स्थित प्राइवेट लॉन्च-पैड के जरिए सफलतापूर्वक अंजाम दिया गया। इस बात की जानकारी ISRO और Agnikul ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी।

Agnikul Launches Agnibaan SOrTeD Rocket

जैसा हमनें आपको पहले ही बताया यह अग्निबाण सब-ऑर्बिटल टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर (Agnibaan SOrTeD) लॉन्च करने Agnikul द्वारा की गई पांचवीं कोशिश थी। SOrTeD (सबऑर्बिटल टेक्नोलॉजिकल डिमॉन्स्ट्रेटर) असल में एक सेमी-क्रायोजेनिक इंजन द्वारा संचालित सिंगल-स्टेज रॉकेट है।

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

भारत में विकसित इस रॉकेट को आईआईटी मद्रास में Agnikul Cosmos की फ़ैसिलिटी में असेंबल किया गया था। इसकी जानकारी खुद केंद्रीय आईटी और प्रौद्योगिकी विभाग मंत्री, राजीव चंद्रशेखर ने दी।

See Also
moodys-vs-india-aadhaar-is-most-trusted-digital-id

इसरो ने भी Agnikul को बधाई देते हुए, इस टेस्ट फ्लाइट के तहत Agnibaan SOrTeD 01 मिशन की सफलता को भारत के स्पेस सेक्टर में एक मील का पत्थर करार दिया है। आपको बता दें पहले इस रॉकेट का परीक्षण मंगलवार को किया जाना था, लेकिन बाद में इसे टाल दिया गया था।

आपको बता दें इस उड़ान में कई ख़ासियत रहीं, जैसे पहले तो यह उड़ान एक प्राइवेट लॉन्च-पैड से अंजाम दी गई। असल में Agnikul Cosmos श्रीहरिकोटा में भारत का पहला प्राइवेट लॉन्च-पैड भी संचालित करता है। इसके अलावा Agnibaan SOrTeD 01 रॉकेट में दुनिया के पहले सिंगल-पीस 3D-प्रिंटेड रॉकेट सेमी-क्रायोजेनिक इंजन का इस्तेमाल किया गया।

कंपनी की मनें तो Agnibaan एक कस्टामाइजेबल, दो स्टेज वाला रॉकेट है, जिसने लॉन्च वेहकिल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है और यह 300 किलोग्राम तक के पेलोड को लगभग 700 किमी तक के ऑर्बेट में ले जाने में सक्षम है। वहीं SOrTeD पर गौर करें तो यह एक सिंगल स्टेज लॉन्च व्हीकल है जो क्रायोजेनिक इंजन, एग्निलेट द्वारा संचालित होता है, जिसे दुनिया का पहला सिंगल-पीस 3डी-प्रिंटेड सेमी-क्रायोजेनिक रॉकेट इंजन माना जाता है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.