Now Reading
IMD की चेतावनी, भयंकर लू और गर्मी झेलने को रहें तैयार

IMD की चेतावनी, भयंकर लू और गर्मी झेलने को रहें तैयार

  • इस साल भारत में गर्मी का सीजन काफ़ी अधिक गर्म रहने वाला है.
  • देश में अलनीनो का प्रभाव रहने वाला है.
most-polluted-state-and-cities-in-india

IMD’s warning, severe heat wave and heat:जलवायु परिवर्तन और बिगड़ते पर्यावरण चक्र के बीच भारत के नागरिकों के लिहाज़ से एक बड़ी खबर सामने आई है। आईएमडी (भारतीय मौसम विज्ञान विभाग) ने एक जानकारी साझा करते हुए बताया कि इस साल भारत में गर्मी का सीजन काफ़ी अधिक गर्म रहने वाला है, इसका मतलब पूर्व के वर्षो से अधिक, यह गर्मी देश में शुरुआती दौर में ही लोगों को प्रभावित करेंगी।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार पूरे गर्मी के सीजन के दौरान अल-नीनो परिस्थितियों के बने रहने का अनुमान है, जिससे देश में अधिकांश हिस्से को तेज लू का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही इस सीजन में समान्य से अधिक गर्मी और लू के दिनों की संख्या के बढ़ने के अनुमान हैं।

अल नीनो का प्रभाव रहेगा

देश में अलनीनो का प्रभाव रहने वाला है, इस दौरान मार्च से मई में अधिकांश हिस्सों में अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है। आईएमडी के अनुसार मार्च से मई तक उत्तर-पूर्व भारत, पश्चिमी हिमालय, दक्षिण-पश्चिमी प्रायद्वीप और पश्चिमी तट को छोड़कर अधिकांश (IMD’s warning, severe heat wave and heat) हिस्सों में लू वाले दिनों की संख्या अधिक रहने का पूर्वानुमान है।

आपको बता दे, अल नीनो प्रभाव मौसम संबंधी एक विशेष घटना स्थिति है, जो मध्य और पूर्वी प्रशांत सागर में समुद्र का तापमान सामान्य से अधिक होने पर बनती है। सरल भाषा में कहें तो इस इफ़ेक्ट की वजह से तापमान काफी गर्म हो जाता है। इसकी वजह से पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में रहने वाला गर्म सतह वाला पानी भूमध्य रेखा के साथ पूर्व की ओर बढ़ने लगता है, जिससे भारत के मौसम पर असर पड़ता है।

आईएमडी ने इसी अल नीनो प्रभाव का जिक्र करते हुए कहा है, कि उत्तर-पूर्व प्रायद्वीपीय भारत-तेलंगाना, आंध्र प्रदेश एवं उत्तरी अंदरूनी कर्नाटक तथा महाराष्ट्र और ओडिशा के कई हिस्सों में सामान्य से अधिक दिनों तक लू चलने का पूर्वानुमान है।

See Also
Arrest in Babri demolition case after 31 years

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

गौरतलब हो, पिछले 30 साल में सिर्फ भारत में गर्मी से कम से कम 26 हजार लोगों की मौत हो चुकी है, जलवायु परिवर्तन के कारण हाल के सालों में हीट वेव और बहुत ज्यादा तापमान लगातार आम होते जा रहे हैं। इस बदलती परिस्थिति में भारत में रह रहे नागरिकों को अधिक प्रभावित किया है। ऐसे में कई लोगों ने देश में हीट वेव को आपदा घोषित किए जाने की बात कही हैं।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.