कर्नाटक में कृष्णा नदी से मिली 1,000 साल पुरानी ‘भगवान विष्णु की मूर्ति’ और ‘शिवलिंग’

  • कर्नाटक में कृष्णा नदी के किनारे मिली प्राचीन भगवान विष्णु की मूर्ति
  • रायचूर में एक पुल निर्माण के दौरान एक शिवलिंग की भी प्राप्ति की गई
1000-years-old-vishnu-idol-shivling-found-in-karnataka-river

1000 years old Vishnu Idol, Shivling Found In Karnataka River: तेलंगाना और कर्नाटक राज्यों की सीमा के पास कृष्णा नदी के किनारे से सदियों पुरानी भगवान विष्णु की मूर्ति और एक शिवलिंग मिले हैं। शुरुआती जानकारी के अनुसार, ये मूर्तियाँ लगभग 1,000 साल पुरानी बताई जा रही हैं।

यह जानकारी एनडीटीवी की एक हालिया रिपोर्ट में सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, कर्नाटक के रायचूर जिले में कृष्णा नदी से भगवान विष्णु की मूर्ति और शिवलिंग मिला है। तस्वीरों को देखनें पर यह पता चलता है कि भगवान विष्णु की मूर्ति में उनके दशावतार का चित्रण किया गया है।

Vishnu Idol, Shivling Found In Karnataka River

यह मूर्तियाँ असल में रायचूर में एक पुल निर्माण के दौरान हो रहे कार्य के दौरान प्राप्त की गई हैं। फिलहाल भगवान विष्णु की मूर्ति और शिवलिंग दोनों को ही भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को सौंप दिया गया है। यह खबर सामने आते ही, नदी की तलहटी से प्राप्त की गई भगवान विष्णु की इस प्रतिमा की तुलना हाल में अयोध्या में स्थापित की गई रामलला की मूर्ति से की जा रही है।

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

See Also
doctors-must-mention-reason-while-prescribing-anti-biotics-govt

सोशल मीडिया पर यह खबर सामने आते ही लोगों के बीच उत्सुकता नजर आने लगी आही। कई लोग अटकलें लगा रहे हैं कि पुराने समय में बाहरी आक्रमणकारियों से मूर्तियों को बचाने के लिए इन्हें शायद नदी में डाल दिया गया हो।

मीडिया रिपोर्ट्स ये भी बताती हैं कि यह मूर्ति लगभग 11वीं शताब्दी के आसपास की हो सकती हैं। यह सभी संभावना है कि इन्हें कल्याण चालुक्य राजवंश के शासनकाल में बनाया गया हो। फिलहाल भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारी और विशेषज्ञ इन मूर्तियों की जाँच करेंगे और तभी इस संबंध में कोई पुख्ता जानकारी सामने आ सकेगी।

फिलहाल सामने आई तस्वीरों में भगवान विष्णु का दशावतार अंकित नजर आ रहा है, इस मूर्ति में भगवान विष्णु की चार भुजाएँ दर्शाई गई हैं, जिनमें से ऊपर के दो हाथों में शंख और चक्र दिखाई पड़ते हैं, वहीं नीचे के हाथ मानों वरदान प्रदान करने की मुद्रा में उकेरे गए हैं।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.