Now Reading
एडटेक स्टार्टअप Saarthi Pedagogy ने नए निवेश के साथ, पूरा किया ₹30 करोड़ का ‘प्री-सीरीज ए’ फंडिंग राउंड

एडटेक स्टार्टअप Saarthi Pedagogy ने नए निवेश के साथ, पूरा किया ₹30 करोड़ का ‘प्री-सीरीज ए’ फंडिंग राउंड

edtech-startup-saarthi-pedagogy-closes-rs-30-crore-funding-round

Startup Funding – Saarthi Pedagogy: एक ऐसे दौर में जब बाजार में निवेशकों ने हाथ पीछे खींचना शुरू कर दिया है और इसे फंडिंग विंटर (Funding Winter) तक का नाम दे दिया गया है। ऐसे में किसी स्टार्टअप के लिए अपना फंडिंग राउंड सफलतापूर्वक पूरा करना महत्वपूर्ण हो जाता है।

और ऐसा ही कुछ कर दिखाया है, अहमदाबाद आधारित एडटेक स्टार्टअप Saarthi Pedagogy ने, जिसने वेंचर कैपिटल फर्म, GVFL Limited से ₹10 करोड़ का निवेश हासिल किया है। इस निवेश दौर में Prestige Group की सहायक इकाई Pinnacle Investments ने भी भागीदारी की।

दिलचस्प रूप से, इस नए निवेश के साथ ही Saarthi Pedagogy ने अपने ₹30 करोड़ के प्री-सीरीज ए फंडिंग राउंड को भी पूरा कर लिया है।

इस फंडिंग राउंड से हासिल की गई धनराशि का इस्तेमाल कंपनी अपनी सेवाओं के बिक्री दायरे को बढ़ाने, तकनीकी टीम को मजबूत बनाने और प्रोडक्ट्स में सुधार आदि के लिए करेगी।

Saarthi Pedagogy की शुरुआत साल 2018 में सुशील अग्रवाल (Sushil Agrawal) द्वारा की गई थी। यह कंपनी मध्य-टियर स्कूलों को लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम (LMS) और ERP सुविधाएँ प्रदान करने का काम करती है।

इस स्टार्टअप ने हाल ही में छात्रों के लर्निंग अनुभव में सुधार की पहचान करने और उन्हें व्यक्तिगत होमवर्क शीट प्रदान करने को लेकर, स्कूलों की मदद करने के लिए अपना नया तकनीकी प्लेटफ़ॉर्म भी लॉन्च किया।

कंपनी के मुताबिक, यह अहम वृद्धि दर्ज करते हुए, वर्तमान में 1,500 से अधिक स्कूलों और लगभग 2,00,000 छात्रों को सेवाएं प्रदान कर रही है। वहीं आगामी शैक्षणिक वर्ष 2023-24 के लिए यह इस आँकड़े को 5,000 से अधिक स्कूलों और 8,00,000 छात्रों तक ले जाने की योजना बना रही है।

Saarthi Pedagogy
Image Credit: Saarthi Pedagogy

इस निवेश को लेकर कंपनी के संस्थापक, सुशील अग्रवाल ने कहा;

“हम 4.5 लाख बजट स्कूलों की समस्या को हल करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जिनकी फीस ₹15,000 – ₹45,000 के बीच होती है। यह ऐसे स्कूल हैं जहां किफायती फीस एक बहुत महत्वपूर्ण पहलू है और छात्र इसको लेकर भी बहुत सजग रहते हैं।”

“लेकिन इसके साथ ही, आज के दौर में उन्हें तकनीक-संचालित शिक्षा की भी आवश्यकता है, जो उनके लर्निंग अनुभव में व्यापक सुधार करे।”

See Also
google-play-upi-autopay-option-in-india

इस बीच GVFL Limited के मैनेजिंग डायरेक्टर, कमल बंसल (Kamal Bansal) ने कहा;

“साल 2020 में लगभग $2.8 बिलियन वाले भारत का एडटेक बाजार के, आज लगभग 39% के सीएजीआर वृद्धि के साथ साल 2025 तक $10 बिलियन तक पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। दिलचस्प रूप से इसमें K-12 लर्निंग सॉल्यूशंस की कुल बाजार हिस्सेदारी 41% तक होने का अनुमान है।”

“ऐसे में Saarthi देश का सबसे तेज बढ़ने वाला K-12 तकनीकी समाधान प्रदाता बनकर उभर रहा है, जो आर्टिफ़िशल इंटेलिजेन्स (एआई) आधारित अपने LMS और आधुनिक ERP सुविधाओं के साथ, किफायती स्कूलों को 360° समाधान प्रदान करने का काम कर रहा है।”

उन्होंने आगे कहा कि Saarthi असल में ‘ग्रेड’ और ‘ज्ञान’ के बीच की खाई को पाटने का काम करते हुए, स्कूलों, शिक्षकों और छात्रों के लिए एक एंड-टू-एंड समाधान की पेशकश कर रहा है। यह मौजूदा एड-टेक इंडस्ट्री में उपलब्ध समाधानों से अलग है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.