Now Reading
Apple ला रहा है RCS सपोर्ट, iPhone व Android के बीच मैसेजिंग होगी आसान

Apple ला रहा है RCS सपोर्ट, iPhone व Android के बीच मैसेजिंग होगी आसान

  • Apple साल 2024 में जारी कर सकता है 'RCS यूनिवर्सल प्रोफाइल' सपोर्ट
  • SMS या MMS की तुलना में 'बेहतर इंटरऑपरेबिलिटी' अनुभव प्रदान करने में होगा सक्षम
apple-to-partner-with-openai-for-gen-ai-chatgpt-support-on-ios-18

Apple To Support RCS Messaging: सबको चौंकाते हुए टेक दिग्गज एप्पल (Apple) ने एक बड़ा ऐलान किया है। कंपनी ने यह घोषणा की है कि यह जल्द रिच कम्युनिकेशन सर्विसेज (RCS) मैसेजिंग मानक को अपनाने जा रही है। जी हाँ! आपको बता दें, अगर यह संभव होता है तो iPhones में यूएसबी टाइप-सी चार्जिंग सपोर्ट के बाद अब तक के सबसे बड़े बदलावों में गिना जाएगा।

Apple की मानें तो कंपनी के डिवाइसों में RCS सपोर्ट की सुविधा अगले साल यानी 2024 के अंत तक एक ‘सॉफ़्टवेयर अपडेट‘ के तहत लॉन्च की जाएगी। आसान शब्दों में समझनें की कोशिश की जाए तो RCS सपोर्ट मिलने के बाद iPhone और Android उपयोगकर्ताओं के बीच मैसेजिंग काफी आसान और बेहतर होगी।

इस संबंध में 9to5Mac को दिए एक बयान में, Apple के एक प्रवक्ता ने कहा कि अगले साल (2024) के अंत तक RCS यूनिवर्सल प्रोफाइल सपोर्ट जारी किया जा सकता है, जो वर्तमान में GSM एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित एक मानक है। कंपनी की ओर से दिए बयान में कहा गया;

“कंपनी का मानना है कि रिच कम्युनिकेशन सर्विसेज (RCS) बेहतर इंटरऑपरेबिलिटी अनुभव प्रदान करने में सक्षम होगी।”

“RCS यूनिवर्सल प्रोफाइल SMS या MMS की तुलना में कहीं बेहतर इंटरऑपरेबिलिटी प्रदान करेगी। यह Apple के iMessage के साथ मिलकर काम करेगा, जो Apple उपयोगकर्ताओं के लिए सबसे अच्छा और सुरक्षित मैसेजिंग विकल्प बना रहेगा।”

क्या होती है RCS Messaging सुविधा?

रिच कम्युनिकेशन सर्विसेज – जिसे RCS के नाम से भी जाना जाता है – यह लंबे समय से Apple और इसके मजबूत प्रतिद्वंद्वी Google के बीच एक विवाद का विषय बना रहा है। असल में यह एक ऐसी एडवांस और बेहतर मैसेजिंग सुविधा है, जो फोन पर मौजूद मैसेजिंग ऐप के साथ ही काम करती है।

न्यूज़North अब WhatsApp पर, सबसे तेज अपडेट्स पानें के लिए अभी जुड़ें!

See Also
whatsapp-channels-forward-message-feature-details

RCS के साथ iPhone और Android डिवाइसों के बीच क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म मैसेजिंग आसान होने के साथ ही साथ, उपयोगकर्ताओं को कई iMessage-स्टाइल की सुविधाएँ भी ईल सकेंगी। RCS के तहत क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म मैसेजिंग के दौरान Read Receipts, टाइपिंग इंडिकेटर, हाई-क्वॉलिटी ईमेज और वीडियो जैसी तमाम खूबियाँ मिलती हैं।

पारंपरिक SMS के अलग, RCS मोबाइल डेटा या वाई-फाई पर भी काम कर सकता है। इतना ही नहीं बल्कि कंपनी की मानें तो Apple द्वारा RCS सपोर्ट पेश किए जाने के बाद उपयोगकर्ता ‘टेक्स्ट थ्रेड’ में ही अन्य लोगों के साथ अपनी लोकेशन साझा कर सकेंगे। हालाँकि Apple का हमेशा से दावा रहा है कि iMessage कई मायनों में RCS से कहीं अधिक सुरक्षित है और बेहतर एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड विकल्प है।

फिर Apple क्यों ला रहा है RCS Support?

Apple द्वारा RCS मैसेजिंग सपोर्ट पेश किए जाने का यह निर्णय असल में ईयू व अन्य नियामकों और Google, Samsung जैसे प्रतिस्पर्धियों के बढ़ते दबाव के बीच आया है। वैसे भी कंपनी निरंतर अपने प्रतिस्पर्धियों जैसे Google और Samsung से बेहतर बनने का प्रयास करती रहती है।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.