Now Reading
ईवी टेक स्टार्टअप Electrifuel ने IAN के नेतृत्व में हासिल किया ₹1.8 करोड़ का निवेश

ईवी टेक स्टार्टअप Electrifuel ने IAN के नेतृत्व में हासिल किया ₹1.8 करोड़ का निवेश

ev-tech-startup-electrifuel-raises-funding

Startup Funding – Electrifuel: ये कहना कहीं से भी गलत नहीं होगा कि इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) टेक स्टार्टअप का दौर शुरू हो चुका है और आने वाले समय में ये क्षेत्र सबसे अधिक तेजी से बढ़ने वाले क्षेत्रों में होगा।

इसी क्रम में अब दिल्ली-एनसीआर आधारित ईवी टेक स्टार्टअप Electrifuel ने अपने सीड फंडिंग राउंड में ₹1.8 करोड़ का निवेश हासिल किया है।

कंपनी के लिए इस निवेश दौर का नेतृत्व Indian Angel Network (IAN) के निवेशकों विष्णुराज कुंजुर, साहिल केजरीवाल और प्रदीप गुप्ता ने किया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इस स्टार्टअप की मानें तो प्राप्त की गई इस पूँजी का इस्तेमाल कंपनी में शीर्ष प्रतिभाओं को शामिल करने, अपनी टीम का विस्तार करने और बड़े पैमाने पर उत्पादन आदि के लिए किया जाएगा।

Electrifuel की शुरुआत साल 2017 में इंजीनियरों के एक ग्रुप ने मिलकर की, जिसमें सुमेश कुमार (Sumesh Kumar), सुनील कुमार (Sunil Kumar), अभिषेक कुमार (Abhishek Kumar) और उज्जवल भारद्वाज (Ujjwal Bhardwaj) शामिल रहे।

Electrifuel

यह स्टार्टअप मुख्य रूप से ईवी और बैटरी निर्माताओं को सटीक जियोलोकेशन, सेलुलर कनेक्टिविटी, कुशल व तेज चार्जिंग और बैटरी स्वैपिंग सहित स्मार्ट इलेक्ट्रिक वाहनों से संबंधित उत्पाद बनाने में मदद करता है। साथ ही कंपनी वारंटी और सर्विस मैनेजमेंट के क्षेत्र में भी सेवाएँ प्रदान करती है।

इस स्टार्टअप का दावा है कि इसने अब तक अपने उत्पादों की 15,000 से अधिक इकाइयों को 25 ग्राहकों के लिए तैनात किया है। कंपनी ने यह भी बताया है कि यह फिलहाल चार ईवी बैटरी निर्माताओं के साथ परीक्षण भी कर रही है।

इस निवेश को लेकर Electrifuel के सह-संस्थापक उज्जवल भारद्वाज ने कहा;

“हम लगातार ईवी तकनीक को सहज बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं, जो पारंपरिक जीवाश्म ईंधन आधारित वाहनों के बजाए इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के प्रयासों में तेजी ला सकती है।”

See Also
disney-in-talks-with-adani-sun-tv-to-sell-india-assets

“वैसे तो हम अपनी शुरुआत के बाद से ही बतौर बूटस्ट्रैप्ड कंपनी काम कर रहे हैं, लेकिन अब IAN के साथ आने से हम अपने लक्ष्य को पाने की ओर और अधिक गति से आगे बढ़ेंगे और अपनी टीम का विकास करेंगे। हम नए उत्पादों के विकास में भी तेजी लाना चाहते हैं, अपने ग्राहक आधार को बढ़ाना चाहते हैं और अपने संचालन का विस्तार करना चाहते हैं।”

वहीं इस निवेश को लेकर IAN के दिग्गज निवेशक विष्णुराज कुंजुर ने कहा;

“जैसा कि दुनिया तेजी से ग्रीन एनर्जी की ओर रूख कर रही है, ऐसे में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) मौजूदा संकट को हल करने का बेहतरीन विकल्प बन गए हैं। ईवी क्षेत्र में उत्पादकता बढ़ाने आदि के लिए एक मजबूत हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर सपोर्ट की जरूरत है।”

“इस स्टार्टअप ने SaaS मॉडल के जरिए खुद का स्वदेशी बैटरी मैनेजमेंट, टेलीमैटिक्स हार्डवेयर और ईवी ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित किया है। कंपनी पहले से ही Greenfuel, Indigrid, Waaree, Hyperex आदि कई प्रमुख निर्माताओं के साथ सफलतापूर्वक काम कर रही है और अपनी तकनीकों को साबित कर चुकी है।”

आपको बता दें एक अनुमान के मुताबिक, आगामी साल 2025 तक  ईवी और बैटरी टेक बाजार आकार ₹5000 करोड़ से भी कहीं अधिक का होगा।

©प्रतिलिप्यधिकार (Copyright) 2014-2023 Blue Box Media Private Limited (India). सर्वाधिकार सुरक्षित.